Adalat kismat ka khel koi pass koi fail -3

Adalat kismat ka khel koi pass koi fail -3

शतरंज एकमात्र ऐसा खेल है जिसमें किस्मत से ज्यादा दिमाग का उपयोग होता है और शायद इसीलिए यह आदित्या का पसंदीदा खेल है |आदित्या अपने प्रशिछु तथा एक विमेव दोस्त कास  के साथ शतरंज खेल रहा था कुछ साल पहले एक लॉ कॉलेज से पास होने के बाद विकास  ने आदित्या को उसे अपने interm के रूप में नौकरी देने के लिए कहा |

मैं इंटरम नहीं रखता लेकिन मुझे ऐसे आदमी की जरूरत है जो Adalat में मेरी फाइलें उठा सके तो क्या यह काम करना चाहते हो आदित्या ने विकास  का मजाक बनाते हुए कहा मगर हैरानी इस बात की है कि विकास  मान गया विकास  किसी भी सूरत में आदित्या के आसपास रहना चाहता था क्योंकि वह जानता था कि वो जितना  आदित्या के साथ रहने से सिख सकता था उतना ज्ञान उसे किसी भी किताब में नहीं मिलेगा |

आखिर किस किताब में लोगो के ब्लैकमेल करने के नुस्खे बताए गए हैं आदित्या के साथ काम करने का सौभाग्य सिर्फ लायक लोगों को ही मिलता था आदित्या के राजा की और अपनी रानी को तीन तिरछे  कदम आगे बढ़ाने के बाद विकास  को आदित्या पर जीत दर्ज करने की आस जगी खुशी और डर के मिले जुले भाव के साथ विकास  ने चेक कहा मगर इस चाल का विकास  के दिमाग में आने से पहले ही आदित्या ने इसका अंदाजा लगा लिया था|

Adalat kismat ka khel koi pass koi fail -3

इस खेल की यही खासियत है| आदित्या ने अपना  हाथी उठा लिया और एक चालाक मुस्कान के साथ कहा तुम्हे पता है की  मैंने अपने राजा को तुम्हारे लिए खुला क्यों छोड़ा हुआ है विकास  ने शांत रहकर अपने बॉस की बात को सुनना ही सही समझा आदित्या के मुंह से निकले हर शब्द में गहराई होती है जब लोगों को दूसरों पर हमला करने का मौका मिलता है तो वह अपने बचाव की परवाह नहीं करते बस यही उनसे चूक हो जाती है मैं पूरे खेल के दौरान लोगों को एहसास दिलाता हूं कि वह जीत रहे हैं इससे वह कमजोर पड़ जाते हैं|

विकास  ने तबतक अपनी गलती पकड़ ली थी | उसकी रानी आदित्या के हाथी से उसके राजा को बचा रही थी लेकिन विपक्षी राजा को निशाना बनाने के लिए वह अपने राजा का बचाव करना भूल गया खेल खत्म आदित्या ने कहा और विकास  के राजा को गिराकर खेल समाप्त कर दिया |

आदित्या अपने नये क्लाइंट से  मिलने के लिए कचहरी  पहुंचा| उसने अपने ड्राईवर को अपनी गाड़ी सड़क के किनारे कचहरी के पास खड़ी करने को कहा | ये एक परभावशाली विधायक भरीराज सिंह के बेटे का मामला था | सिंह साहब पहले से ही सिद्दार्थ का इंतेजार कर रहे थे | उन्होंने आदित्या के कार को देखा और कार का बांया दरवाजा खोलकर कार के अन्दर बैठ गये|

उन्होंने क्रीम कलर के नेहरु जैकेट के साथ सफ़ेद कलर का एक कुर्ता पैजामा पहना था उनके व्यक्तित्व को निखारने और एक नेता की छवी को बनाये रखने के लिए हमेशा की तरह एक लाल तिलक उनके माथे पर लगा हुवा था | आपके बेटे ने असल में किया क्या है सिंह साहब आदित्या ने उन्हें देखते ही बिना किसी दुआ सलाम के पूछा आदित्या वक़्त बर्बाद नही करना चाहता था |

मेरा बेटा निर्दोष है मेरी छवी ख़राब करने के लिए विपक्छ उसे फ़साने का हथकंडा अपना रही है | आप उसे बचा लीजिये मै उसे सलाखों के पीछे जाते हुवे नही देख सकता | वो गीडगिडाया| सिंह साहब मै जज या कोई media नही हूँ मै तो आपका वकील हूँ | मै यहाँ आपकी मदद करने यहाँ आया हूँ

झूट मत बोलिये| मुझे सच जानना है | सिंह साहब के वयवहार पर आदित्या भड़क रहा था |विधायक दोहराते रहे की मेरा बेटा निर्दोष है | जैसे की वो किसी समाचार चैनल की बहस में बोल रहे हों| मेरी गाड़ी से बाहर निकालिए आदित्या झुंझलाकर चिल्लाया |

क्या ….!

विधायक के चेहरे का रंग उड़ गाया | अगर आपका बेटा बेकसूर है तो आपको मेरी क्या जरूरत है| मै शरीफ लोगों के लिए नहीं लड़ता मैं सच्चाई के लिए नहीं बल्कि जीतने के लिए लड़ता हूं| Adalat में ऐसा कुछ साबित नहीं करना चाहता जो पहले से ही साबित हो |जाइए इस काम के लिए किसी साधारण वकील से मिलिए |

विधायक एक मिनट के लिए चुप रहा | और फिर बोला माफी चाहता हूं मैं आपको बताता हूं कि उस दिन क्या हुआ था विधायक ने हाथ जोड़कर कहा उसे अपनी गलती का एहसास हुआ इससे पहले की विधायक एक शब्द भी कह पाते आदित्या ने कहा उस दिन पिर्थवी  का जन्मदिन था वह अपने दोस्तों के साथ जश्न मनाने पब गया था वो नशे में धुत था उसने देर रात और शराब मांगी लेकिन बारटेंडर ने यह कहते हुए इनकार कर दिया कि काउंटर बंद करने का समय है और वे कोई और आर्डर नहीं ले सकते| मिस्टर भारिराज सिंह सिर हीला रहे थे जैसे कोई कहानी सुना रहे हो और फिर आपके प्यारे बेटे पिर्थवी सिंह  ने खाली bear की बोतल से बारटेंड का सिर फोड़ दिया |

क्या मै सही हूँ सिंह साहब की चुप्पी आदित्या की जानकारी की पुष्टि करती थी |आप पहले से यह सब जानते  थे | विधायक ने अपना  माथा पीटते हुए पूछा है आपको लगता है की मै बिना मामले कि  तहकीकात किये आपसे मिलूंगा | यही आपको देश का सबसे बड़ा वकील बनाता है | आपको अपने आस पास होने वाली हर चीज के बारे में पता होना चाहिए और कभी-कभी होने से पहले ही पता चल जानी चाहिये|

आदित्या को हर छोटी से छोटी बात पता थी |फिर भी वो उसे सिंह साहब से सुनना चाहते थे |शायद लोगों को तोडना उसे अच्छा लगता है और मौका मिलने पर वह ऐसा करता भी है विधायक ने पुण: निवेदन किया वह बारटेंडर गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती है मेरा बेटा बहुत बड़ी मुसीबत में है उसकी मदद करें |

आप Adalat में मेरा इंतजार करें मैं कार्यवाही के लिए कुछ देर में पहुंचता हूं आदित्या ने कुछ फोन कॉल्स किए और केस के लिए कमर कस ली |

29 साल की उम्र में वो एक सुपरस्टार का कैरियर बना चुका था जो न केवल कानूनी हलचल भी शामिल था बल्कि देश भर में सुर्खियां बटोर रहा था 6 फीट 4 इंच की कद काठी वाला आदित्या उन वकीलों में से एक था जो हमसे कभी कभी टकराते हैं|

वह अपने मन की बात बेझिझक कहता था और बहुत बार दूसरों का मन भी पढ़ लेता था आप या तो उससे प्यार कर सकते हैं या तुरंत उससे नफरत कर सकते हैं लेकिन आप उसे अनदेखा नहीं कर सकते अपना मोबाइल बंद करें कह्हरी के प्रवेश द्वार पर चिपके काकेगज  टुकड़े पर लिखा था |

संसद के उलट Adalat में शांति की उम्मीद की जाती है जस्टिस जयशंकर वि के गुप्ता  Adalat आये और बेलिफ ने अपने फेफड़ों के जोर से चिल्लाया सभी खड़े हो जाइए सुपीरियर कोर्ट ऑफ महाराष्ट्र माननीय जस्टिस वि के गुप्ता  की कार्यवाही अब शुरू होने वाली है जस्टिस वि के गुप्ता  के चेहरे पर एक बेबाक की चमक थी |

दर्शकों में बैठे लोग उसके सम्मान में खड़े हो गये थे  और फिर से बैठ गए | Adalat की कार्यवाही शुरू हुई| माय लॉड ये आदमी पिर्थवी सिंह  समाज के लिए खतरा है उसे कानून और न्याय का कोई डर नहीं है सभी लोगों के सामने उसने गरीबा बार टेंडर के सिर पर बोतल मार दिया और उस गरीब आदमी का क्या दोष था उन्होंने बार के नियम का पालन किया और पिर्थवी सिंह  और उसके दोस्तों को अधिक bear देने से इनकार किया क्या ये वजह एक गरीब व्यक्ति को मारने के लिए काफी है सरकारी वकील ने मामले को पेश करते हुए मुकदमा शुरू करने के लिए कहा उसने कमरे को एक बैचैन ऊर्जा से भर दिया|

आज कल लोगों को क्या हो रहा है क्या उन्हें police और कानून का कोई भय नही है | माय लोड मै पिर्थवी सिंह  के लिए कड़ी से कड़ी सजा का अनुरोध करता हूँ| ताकि आपका निर्णय समाज के लिए एक मिसाल बन जाए और लोग सीखे कि ऐसा गंभीर अपराध करने पर उन्हें बख्शा नहीं जाएगा सरकारी वकील ने बैठने से पहले आदित्या को देखा |

मुकदमे की प्रस्तावना पर दर्शकों में मौजूद प्रेस और कुछ बाहरी लोगों ने ताली बजाकर समर्थन किया| वाह मेरे दोस्त आज आपने क्या शानदार भाषण दिया है आदित्या ने खड़े होकर के तली बजाई | मगर आप ये कैसे कह सकते है की पिर्थवी सिंह  ने खड़े हो कर के बार टेंडर के सर में बोतल से war किया | आपके पास अपनी फर्जी कहानी के समर्थन में कोई सबूत या चश्मदीद गवाह है|

इससे पहले कि सरकारी वकील कुछ कह सके आदित्या ने कहा माय लॉड सिंह जी एक सम्मानित राष्ट्रीय नेता है वह आगामी चुनाव लड़ रहे हैं और उन्हें बदनाम करने के लिए उनके विरोधियों ने यह बकवास कहानी गढ़ी है पिर्थवी सिंह  निर्दोष है मै सहमत हूँ की वो उस रात बार में मौजूद था लेकिन उसे बार टेंडर को नहीं मारा और अगर मैं गलत हूं तो वकील साहब किसी भी चश्मदीद को पेश क्यूँ नही करते |

Adalat में पूरी तरह सन्नाटा पसरा रहा | सभी की नज़र सरकारी वकील पर थी |कि वो कोई चश्मदीद गवाह ला सकेगा या नहीं इस मामले के गवाह को बुलाने के लिए मुझे 1 घंटे का समय दीजिए|वकील ने Adalat से दरखास्त की|  जस्टिस वि के गुप्ता  ने मंजूरी दे दी और वकील साहब को lunch ब्रेक के बाद गवाह को पेश करने का आदेश दिया| Adalat की कार्यवाही को एक घंटे के लिए मुल्तवी किया जाता है| जज ने  घोषणा की और चले गए|

अगर वो चश्मदीद को पेश करता है तो क्या होगा विधायक ने आदित्या से पूछा उसका चिंतित होना स्वाभाविक था चिंता मत करो कुछ भी बुरा नहीं होगा कम से कम आज तो नहीं|आदित्या को यकीन था की  वह इससे निपट सकता है आखिर ये उसके कैरिएर का पहला lunch ब्रेक नही था | विधायक लंच ब्रेक के दौरान बेचैन हो रहे थे और उन्होंने खाना भी नहीं खाया जब आपका बेटा गिरफ्तार होने वाला हो तो भला खाना कहां भाता है |

मै ये दबाव नही झेल सकता जाकर जज को खरीद लेता हूँ |विधायक ने आदित्या की आँखों में झाकते हुवे कहा |जब पैसे और ताकत का गुरूर बोलने लगता है तो दिमाग छुट्टी पर चला जाता है कोई जरूरत नहीं है यह बहुत खतरनाक हो सकता है अगर वह पैसे लेने से मना कर दे तो क्या होगा आदित्या ने पूछा तब मै और ज्यादा पैसे दूंगा पूरी वह तरह हताश था हर किसी की एक कीमत होती है |

इस तरह हम कभी भी केस नहीं जीत पाएंगे आदित्या ने आग्रह किया | विधायक एक पल के लिए चुप हो गया लेकिन कुछ ही देर में उसने बेशर्मी से कहा अगर कुछ भी गलत हुआ तो मैं यह सुनिश्चित कर लूंगा कि इस  जज को हमारी अगली सुनवाई से पहले इस Adalat से तबादला मिल जाए और एक नया जज हमारे मामले की सुनवाई करें |

ठीक है अगर आप उसे खरीदना ही चाहते हैं तो मैं उससे बात करूंगा |आप नहीं आदित्या को यकीन था कि विधायक काम खराब ही करेंगे आदित्या को जज से बात करने के लिए मजबूर किया गया था| वि के गुप्ता उस कोर्ट रूम में तैनात एक नए जज थे |

आदित्या उनके सामने पहला केस लड़ रहे थे और अगर कोई दूसरा जज होता तो आदित्या उनके सामने पैसे देने से पहले दूसरी बार सोचता भी नहीं| जस्टिस वि के गुप्ता  अपनी बीवी का बनाया lunch खा रहे थे |जब आदित्या ने उनके केबिन का दरवाजा खटखटाया वे औरों की तरह कांटे और छुरी से नहीं बल्कि अपने हाथों से खाना खा रहे थे |

वह बहुत ही विनम्र और साधारण होकर के भी प्रभावशाली थे वि के गुप्ता  ने  आदित्या के सामने रखी कुर्सी पर बैठने को कहा और उसे खाना खाने के लिए पूछा इसका स्वाद चख मेरी बीवी अच्छा खाना बनाती है आदित्या ने कहा दरअसल मैंने खाना खा लिया है बताइए मैं आपके लिए क्या कर सकता हूं आदित्या साहब मैंने आपके बारे में बहु….त सुना है वि के गुप्ता ने खाते हुए पूछा|

अगर आप चाहे तो आप बहुत कुछ कर सकते हैं क्या आप रोजाना एक ही सब्जी के साथ शादी रोटी खाना पसंद करते हैं मुझे लगता है कि आपको तंदूरी चिकन खाना चाहिए आदित्या ने संकेत दिए कि वह असल में क्या कहना चाहता था| मैं मंगलवार को मांसाहारी भोजन नही खाता वि के गुप्ता ने कहा |बेशक वो इशारा समझ गए थे |लेकिन अंजान बने रहे मैं बाकी सभी दिनों की बात कर रहा हूं आप जानते हैं कि एक बड़ी हस्ती से जुड़ा मामला है और अगर यह मामला लंबा चलेगा तो यह मेरे क्लाइंट की छवि धूमिल होगी क्यों ना इस मामले को इस लंच ब्रेक में ही सुलझा ले ठीक है मैं भी इसे खीचना नहीं चाहता जज ने कहा और आदित्या को ज्यादा महत्व दिए बिना अपना भोजन जारी रखा अरे वह मामला सुलझ गाया  मैंने जितना सोचा था उससे कहीं ज्यादा आसान निकला |

आदित्या ने सोचा और पूछा तो आप क्या चाहते हैं |आप पिर्थवी सिंह  से कहिए कि अपना गुनाह कुबूल करें इस तरह से केस दो मिनट में खत्म हो जाएगा वि के गुप्ता  ने  मुस्कुरा करके  जवाब दिया| अगर मेरा मुवक्किल अपने आरोपों को कुबूल करता है तो इससे आपको क्या हासिल होगा | आप ये सुखी रोटी जिंदगी भर खाते रहेंगे लेकिन अगर आप चाहे तो आप बिरयानी खा सकते है | इसबारे में एकबार सोचीयेगा | आदित्या साहब आप जानते हैं ज्यादा मसालेदार और ज्यादा महंगा खाना मेरे पाचन के लिए अच्छा नहीं है Adalat में मिलते है |

वि के गुप्ता  की आवाज जरा ऊँची हो गयी थी एक  ईमानदार शख्स के लिए किसी भी तरह की रिश्वत की पेशकश गाली की तरह होती है |आदित्या जज के कमरे से बाहर आया विधायक दरवाजे पर उसका इंतजार कर रहे थे वो कितना पैसा मांग रहा है विधायक ने आदित्या को देखती पूछा भ्रष्टाचारी को हर कोई भ्रष्ट लगता है आदित्या जवाब देने के लिए नहीं रुका बस  इंकार में सर हिला कर के चला गया वो किसी से बात करने की मनोदशा में नहीं था| lunch के बाद Adalat की कारवाही फिर से शुरू हुवी|

वि के गुप्ता  ने अपनी कुर्सी संभाली और टाइपराइटर, media, जनता वकील और बाकी लोगों ने भी अपनी अपनी जगह ले ली |सरकारी वकील ने एक युवा software engineer को सामने आने और कटघरे में खड़े होने के लिए कहा|

Adalat को बताइए कि आपका नाम क्या है और उस रात आपने पब में क्या देखा सर मैं शेखर हो मैंने देखा कि इसने  हाथ में बीयर की एक बोतल लेकर के बारटेंडर के सर पर मार दी  उसने पिर्थवी सिंह  की ओर इशारा करते हुए कहा तो यह साबित हो गया माय लोड सरकारी वकील ने कहा और अपना पक्ष पूरा किया|

विधायक का चेहरा फीका पड़ गाया | उसे अपनी हार होते हुवे साफ़ दिखाई दे रही थी |मै इसका विरोध करता हूँ आदित्या ने कहा  उसे अब भी कुछ कहना था उसे किसी भी तरह जीतना था न्यायाधीश ने आदित्या को गवाह से सवाल करने की इजाजत दी| जब आपने उस आदमी के सर को मारते हुए देखा तो आप बार में क्या कर रहे थे आदित्या ने गवाह के पास जाकर पूछा |

सर मुझे नौकरी में प्रमोशन मिला है इसीलिए मै जश्न मनाने के लिए अपने साथियों के साथ वहां पर गाया था |आपकी तरक्की के लिए शुभ कामनाये| बार में जश्न कैसे मनाया |

जाहिर है शराब पी कर वो जशन की रात याद करते हुए मुस्कुराया |क्या आपकी मौजूदगी में बार की रोशनी कम थी |हाँ सर हर बार में तो रोशनी आमतौर से कम ही होती है | माय लोड Adalat की गरिमा को क्या हुवा हम किसी ऐसे व्यक्ति के बयान पर किसी को कैसे दोषी ठहरा सकते है |जो की बार में नशे की हालत में था और उसने  दोषी को कम रोशनी में देखा था इसके अलावा हमें ये नही भूलना चाहिए कि यह व्यक्ति नजर का चश्मा भी पहनता है कानून के अनुसार हम ऐसे व्यक्ति  के बयान को मद्दे नजर नहीं रख सकते |

क्या मै अपने क्लाइंट के लिए उस समय तक जमानत की apeal कर सकता हूँ | जब तक की बार टेंडर अस्पताल से आकर खुद गवाही ना देदे | जज वि के गुप्ता  सच्चाई जानते थे लंच ब्रेक में उनके साथ आदित्या की मुलाकात ने उनका शक दूर कर दिया था लेकिन सबूतों की कमी के कारण उन्होंने पिर्थवी सिंह  को कानूनी तरीके से जमानत दे दी जैसे ही जस्टिस वि के गुप्ता  ने जमानत की घोषणा की सरकारी वकील ने फैसले पर आपत्ति जताई|

जज उसे सुनने की कोशिस कर रहे थे की तभी आदित्या को सर में जोर का दर्द हुवा और चक्कर खा कर वही गिर गाया | आदित्या की बेहोशी ने कोर्ट रूम में तबाही मचा दी मीडिया कर्मियों ने अखबार के मुख्य पृष्ठ के लिए उनकी तस्वीरें ली और विधायक वाकई अपने नाखून चबाने लगे |

जज ने आदित्या को अस्पताल में भर्ती करने का आदेश दिया और अगले महीने तक के लिए इस केस की कार्यवाही स्थगित कर दी |सिंह साहब ने खुद एम्बुलेंस बुलाई क्यूंकि आदित्या ही एकमात्र ऐसा व्यक्ति था जो उनके बेटे को उस समय बचा सकता था और वो अपने बेटे की जिंदगी का जोखिम नहीं उठाना चाहते थे|

 

to Be Continue ( आगे पढने के लिए क्लिक करे )  ………………….

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply